स्वच्छ कुम्भ की गतिविधियाँ

स्वच्छ कुम्भ की तरफ बढ़ते कदम, स्वच्छता के प्रहरी 'स्वच्छाग्रहियों' की हुई एक दिवसीय कार्यशाला

25 अक्टूबर, प्रयागराज इस वर्ष कुम्भ मेले के आयोजन की तैयारियों में लगी मेला प्राधिकरण की टीम द्वारा कुम्भ मेले को स्वच्छ व स्वस्थ बनाने के लिए बड़ी ही जोर शोर से तैयारियां की जा रही हैं। मेला प्राधिकरण श्रद्धालुओं के लिए पर्याप्त मात्रा में शौचालयों के निर्माण एवं कूड़े कचरे की उचित व्यवस्था के लिए कार्यरत है। साथ ही मेला प्राधिकरण कई नवीन योजनाओं एवं तकनीकों के माध्यम से स्वच्छता की अभिनव व्यवस्थाएं प्रदान कराने और समय समय पर इनकी भलीभातिं देख रेख करते रहने का भी प्रबंधन कर रहा है।

स्वच्छ कुम्भ के सन्देश को लोगों तक पहुचाने में स्वच्छ भारत मिशन, ग्रामीण के अंतर्गत कार्यरत स्वच्छता के प्रहरी स्वच्छाग्रहियों का बड़ा महत्पूर्ण योगदान होगा। इसी क्रम में कल दिनांक 25 अक्टूबर को प्रयागराज के चंद्र शेखर आज़ाद पार्क में एक दिवसीय कार्यशाला की श्रंखला में तीसरी कार्यशाला आयोजित की गयी। कार्यशाला में स्वच्छाग्रहियों के उन्मुखीकरण के दौरान विभिन्न गतिविधियां करवायीं गयीं । इसी प्रक्रिया के दौरान उन्हें न केवल इस वर्ष कुम्भ मेला में उपलब्ध करवाई जा रही स्वच्छता व्यवस्था से अवगत कराया गया बल्कि उन्हें स्वच्छता की नवीन कार्यप्रणीलियों की जानकारी भी दी गयी। स्वच्छता के प्रति लोगों की सोच व व्यहवहार परिवर्तन की महत्ता को मद्देनज़र रखते हुए स्वच्छाग्रहियों से विचार विमर्श भी किया गया। उनके सुझावों एवं प्रदर्शन छमता के आधार पर टीम लीडर्स भी चुने गए।

इस एक दिवसीय उन्मुखीकरण का उद्देश्य स्वच्छाग्रहियों के मनोबल को बढ़ाना और इनकी मानसिकता का अवलोकन करना है। कार्यशाला में जनपद प्रयागराज के विभिन्न विकास खण्डों से आये 240 स्वच्छाग्रहियों द्वारा दो चरणों में उत्साह पूर्वक भाग लिया गया।

स्वच्छता के सन्देश को और भी रोचक तरीके से लोगो तक पहुंचाने के लिए बहुप्रिय, शौचा सिंह भी मौजूद रहे। कार्यक्रम के दौरान शौचा सिंह स्वच्छता के गीतों द्वारा स्वच्छाग्रहियों और उपस्थित आम नागरिकों को भी शौचालय के प्रयोग के लाभ बताकर बड़े ही मनोरंजक तरीके से जागरूक किया।

जिला अधिकारी, श्री सुहास एल वाई, महोदय ने सभी स्वच्छाग्रहियों से स्वच्छता के विषय पर चर्चा की एवं उन्मुखीकरण के दौरान विभिन्न गतिविधियो मे उत्साह पूर्वक भाग लेने के लिये प्रोत्साहित किया तथा बताया कि स्वच्छाग्रहि शासन एवं जनता के बीच व्यव्हार परिवर्तन की अहम कडी़ हैं।

पर्यावरण विशेषज्ञ, श्रीमती सलोनी गोयल ने जानकारी दी कि मेले के दौरान स्वच्छाग्रहियों की तैनाती के लिए स्वच्छ कुम्भ योजना के अंतर्गत इस उन्मुखीकरण कार्यशाला का ये तीसरा आयोजन है तथा इस प्रकार की और भी कई कार्यशालाएँ आयोजित होती रहेंगी।

कार्यक्रम का आयोजन मुख्य विकास अधिकारी, प्रयागराज, श्री सैमुएल एन पॉल की अध्यक्षता में हुआ।