कुम्भ के कर्मकांड

आरती

भारतवर्ष में प्रकृति के विभिन्न स्वरूपों यथा नदी, पर्वत ,वृक्ष आदि को देव-स्वरुप मान कर उनकी आराधना करने का प्रचलन आदिकाल से चला आ रहा है। इसी क्रम में जीवनदायिनी निरंतर प्रवाहयुक्त नदियों को प्रमुखता प्रदान की गई है। सरल शब्दों में जीवनदायिनी के प्रति मानव कृतज्ञ होकर अपने भावों की अभिव्यक्ति उनके तट पर आरती के माध्यम से करता आ रहा है, जिसमे विशाल जनसमूह श्रद्धाभाव से सम्मिलित होता है। कहीं यह संख्या सैकड़ों में होती है तो कहीं हज़ारों में तो कहीं कभी-कभी लाखों तक पहुँच जाती है। इसी प्रकार श्रद्धाभाव, आदर एवं सम्मान से ओत-प्रोत आरतियाँ तीर्थराज प्रयाग में गंगा एवं यमुना के तटों के साथ- साथ संगम स्थल पर भी आयोजित होती हैं। यहाँ प्रयागराज मेला प्राधिकरण एवं विभिन्न समितियों द्वारा बड़े धूम-धाम से आरतियाँ कराई जाती हैं जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु भाग लेते हैं। विशेष पर्वों पर तो यह संख्या लाखों के पार भी हो जाती है। प्रयागराज में यह आरतियाँ प्रातः एवं संध्याकाल में होती हैं। जिसमें पाँच से सात की संख्या में बटुक (पुजारी) बड़ी-बड़ी थालों में माँ स्वरूपिणी गंगा जी एवं यमुना जी एवं अदृश्य सरस्वती की आराधना बड़े ही भक्ति-भाव से करते हैं। बटुकों के हांथो में आरती की थालियाँ जैसे साक्षात् पंचतत्वों के महत्त्व को समझाती दिखती हैं। एक ओर ज्वाला जल के चरणों में शीश नवाती हैं तो दूसरी ओर उससे उठता धूम धरा पर व्योम का स्वांग रचता प्रतीत होता है। सुदूर किसी पुल के ऊपर खड़ा मानुस इस विहंगम दृश्य की एकमात्र झलक अपने मस्तिष्क में बिठा लेना चाहता है, आरती के अलौकिक व दैवीय प्रभाव को आत्मसात कर लेना चाहता है।

गंगा आरती

स्नान

कुंभ मेला हिन्दू तीर्थयात्राओं में सर्वाधिक पावन तीर्थयात्रा है। प्रयागराज कुंभ में अनेक कर्मकाण्ड सम्मिलित हैं और स्नान कर्म कुंभ के कर्मकाण्डों में से सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। करोड़ों तीर्थयात्री और आगंतुक दर्शकगण कुंभ मेला स्नान कर्म में प्रतिभाग करते हैं। त्रिवेणी संगम पर पवित्र डुबकी लगायी जाती है। पवित्र कुंभ स्नानकर्म इस विश्वास के अनुसरण में किया जाता है कि त्रिवेणी संगम के पवित्र जल में डुबकी लगाकर एक व्यक्ति अपने समस्त पाप को धो डालता है, स्वयं को और अपने पूर्वजों को पुनर्जन्म के चक्र से अवमुक्त कर देता है और मोक्ष को प्राप्त हो जाता है। स्नान - कर्मकाण्ड के साथ-साथ तीर्थयात्री पवित्र नदी के तटों पर पूजा भी करते हैं और विभिन्न साधुगण के साथ सत्संग में प्रतिभाग करते हैं। मकर संक्रांति (माघ मास का प्रथम दिन, जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है) से आरंभ होकर प्रयागराज कुंभ के प्रत्येक दिन इस कर्मकाण्ड का सम्पादन एक पवित्र स्नान माना जाता है, तथापि कतिपय मांगलिक पवित्र स्नान तिथियां और भी हैं। कुंभ मेला के आरंभ से विहित तिथियों पर शाही स्नान जिसे ‘राजयोगी स्नान’ के रूप में भी जाना जाता है, वहां विभिन्न अखाड़ों (धार्मिक आदेशपीठों) के सदस्यों, संतों एवं उनके शिष्यों की आकर्षक शोभायात्रायें निकाली जाती हैं। शाही स्नान कुंभ मेला का प्रमुख केन्द्रीय आकर्षण हैं और महोत्सव का सर्वाधिक महत्वपूर्ण भाग है, केवल शाही स्नान के पश्चात् ही सर्व साधारण को पवित्र स्नान करना अनुज्ञात किया जाता है, इस विश्वास में कि जन सामान्य भी पवित्र संतों के पवित्र कार्यों एवं विचारों के सार का लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

त्रिवेणी संगम

कल्पवास

कुम्भ मेले के दौरान संगम तट पर कल्पवास का विशेष महत्व है। पद्म पुराण एवं ब्रह्म पुराण के अनुसार कल्पवास की अवधि पौष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी से प्रारंभ होकर माघ मास की एकादशी तक है। पद्म पुराण में महर्षि दत्तात्रेय ने कल्पवास की पूर्ण व्यवस्था का वर्णन किया है। उनके अनुसार कल्पवासी को इक्कीस नियमों का पालन करना चाहिए। ये नियम हैं – सत्यवचन, अहिंसा, इन्द्रियों का शमन, सभी प्राणियों पर दयाभाव, ब्रह्मचर्य का पालन, व्यसनों का त्याग, सूर्योदय से पूर्व शैय्या-त्याग, नित्य तीन बार सुरसरि-स्न्नान, त्रिकालसंध्या, पितरों का पिण्डदान, यथा-शक्ति दान, अन्तर्मुखी जप, सत्संग, क्षेत्र संन्यास अर्थात संकल्पित क्षेत्र के बाहर न जाना, परनिन्दा त्याग, साधु सन्यासियों की सेवा, जप एवं संकीर्तन, एक समय भोजन, भूमि शयन, अग्नि सेवन न कराना। जिनमें से ब्रह्मचर्य, व्रत एवं उपवास, देव पूजन, सत्संग, दान का विशेष महत्व है।

कल्पवास
  • ब्रह्मचर्य : ब्रह्मचर्य का तात्पर्य है ब्रह्म में विचरण करना अर्थात स्वयं ब्रह्म होने की ओर अग्रसर हो जाना। सरल शब्दों में कहा जाए तो कामासक्ति का त्याग ही ब्रह्मचर्य है। जैसे विलासिता पूर्ण व्यसनों का त्याग, गरिष्ट भोज्य पदार्थों का त्याग, कम वासना का त्याग ब्रह्मचर्य पालन के मुख्य अंग हैं।
  • व्रत एवं उपवास : व्रत एवं उपवास कल्पवास का अति महत्वपूर्ण अंग है| कुम्भ के दौरान विशेष दिनों पर व्रत रखने का विधान किया गया है। व्रतों को दो कोटियों में विभाजित किया गया है – नित्य एवं काम्य। नित्य व्रत से तात्पर्य बिना किसी अभिलाषा के ईश्वर प्रेम में किये व्रतों से है, जिसकी प्रेरणा अध्यात्मिक उत्थान पे होती है। वहीँ काम्य व्रत किसी अभीष्ट फल की प्राप्ति के लिए किये गये व्रत होते हैं। व्रत के दौरान धर्म के दसों अंगों का पूर्ण पालन किया जाना आवश्यक होता है। मनु के अनुसार ये दस धर्म हैं – धैर्य, क्षमा, स्वार्थपरता का त्याग, चोरी न करना, शारीरिक पवित्रता, इन्द्रियनिग्रह, बुद्धिमता, विद्या, सत्य वाचन एवं अहिंसा। इसके सम्बन्ध में एक श्लोक में वर्णन भी मिलता है।

    धृतिः क्षमा दमोअस्तेयं शौचमिन्द्रियनिग्रहः।
    धीर्विद्या सत्यमक्रोधो दशकं धर्मलक्षणम्।।

  • देव पूजन : ऐसी मान्यता हैं की कुम्भ के समय देवतागण स्वयं संगम तट पर विचरण करते हैं इस समय श्रद्धा भाव से उनका ध्यान करने से कल्याण होता है। देव पूजन में श्रद्धा का भाव सर्वोपरी है, यदि भक्ति में श्रद्धा का भाव ही न हो तो वह कदापि फलदायी नहीं होती।
  • दान : कुम्भ के दौरान दान का बड़ा महत्व है। यहाँ दान देने वाले एवं लेने वाले, दोनों को लाभ होता है अतः कुम्भ में दिया दान त्याग से भी श्रेष्ठ माना गया है। कुम्भ में गो-दान, वस्त्र दान, द्रव्य दान, स्वर्ण दान आदि का बड़ा महत्व है। सम्राट हर्षवर्धन तो यहाँ हर बारह वर्ष पर अपना सर्वस्व दान दे देते थे।
  • सत्संग : सत्संग का शाब्दिक अर्थ है सत्य की संगत में रहना। कुम्भ के समय श्रद्धालुओं को सन्तों के सानिध्य में रहना चाहिए, उनके प्रवचनों को सुनना चाहिए, निस्वार्थ भाव एवं ऊंच-नीच का आडम्बर समाप्त हो सके और मनुष्य उत्कृष्ट जीवन उद्देश्य की ओर अग्रसर हो सके ।
  • श्राद्ध एवं तर्पण : श्राद्ध से तात्पर्य श्रद्धा पूर्वक पितरों को पिण्ड दान देने से है। श्राद्धकर्म पुरोहितों के माध्यम से कराया जाने वाला कर्म है। जिसके लिए प्रयाग में विशेषकर पुरोहित होते हैं जिनके पास श्राद्ध कर्म करवाने हेतु आये व्यक्ति की वंशावली होती है। तर्पण कर्म के लिए पुरोहित की अनिवार्यता नहीं होती यदि व्यक्ति समूचित प्रक्रिया का समस्त सम्पादन कर सकता है तो यह कर्म स्वयंद्वारा भी किया जा सकता है।
  • वेणी-दान : प्रयागराज में वेणी दान का बड़ा महत्व है। इसमें व्यक्ति अपनी शिखा के बाल छोड़कर समस्त बाल गंगा में अर्पित कर देता है। ऐसी मान्यता हैं की केश के मूल में पाप निवास करता है ऐसे में लोकमान्यता है कि प्रयाग में कुम्भ मेले से बेहतर स्थान व समय वेणी दान के लिए नहीं हो सकता है।

कल्पवास के दौरान साफ सुथरे श्वेत वस्त्रो को धारण करना चाहिए। पीले एव सफ़ेद रंग का वस्त्र श्रेष्ठकर होता है। इस प्रकार से आचरण कर मनुष्य अपने अंतःकरण एवं शरीर दोनों का कायाकल्प कर सकता है।

दीपदान

असंख्य दीपों की झिलमिलाहट से दैवदीप्त्मान त्रिवेणी संगम एक अद्वितीय अनुभूति से अंतरमन को भर देता है। जगमग दीपों की माला पूरे वातावरण में अलौकिक अध्यात्म का प्रकाश ऐसे फैला देती है, कि नास्तिक से नास्तिक व्यक्ति के मानसिक पटल पर श्रद्धा एवं आदर का भाव हिलोरे लेने लगता है।

"दीपदान" का शाब्दिक अर्थ है दीप का दान, अर्थात किसी विशेष स्थान जैसे नदी किनारे, मंदिर, धार्मिक वृक्षों के समीप, वन में, या किसी अन्य स्थल पर दीप जलाना। यह अत्यधिक सरल वैदिक विधान है जो यज्ञ जितना ही पुण्यफल दायक है। श्रद्धालु किसी विशेष महीने में किसी विशेष स्थान पर किसी विशेष अनुष्ठान के समय भी दीपदान करते हैं। जैसे कार्तिक मास में तुलसी के समीप दीपदान किया जाता है, गंगा दशहरा, देव दीपावली, माघ मेला या कुम्भ मेला जैसे पर्वों पर माँ गंगा को दीप समर्पित करने का विधान है। जिसमें श्रद्धालु पत्तों से बने दोने में आटे से बने दीपक बना उसमें घी –तेल में भीगी बत्ती जला कर जल में समर्पित कर देते हैं , इस प्रकार से वे नदियों के प्रति श्रद्धा दिखाते हैं। कुछ लोग व संस्थाएं नदी तट पर ही दीपों को लाखों की संख्या में सजाती हैं। इसी प्रकार कुछ लोग नौकायान के द्वारा हजारों की संख्या में दीपदान करते हैं। बहते जल के ऊपर जलते दीपक सुरसरि में टिमटिमाते तारों के सामान प्रतीत होते हैं। एक ओर से दूसरी ओर जल पर तैरते दीपक, देखने वाले का मन मोह लेते हैं।

दीपदान

त्रिवेणी संगम

गंगा जी, यमुना जी एवं अदृश्य सरस्वती जी का मिलन ही तीर्थराज प्रयागराज की पुण्यभूमि पर त्रिवेणी संगम कहलाता है। कहते हैं जब गंगा एवं यमुना के संगम की बात चली तब गंगा जी ने यमुना जी से मिलने से मना कर दिया कारण पूछने पर पता चला की गंगा जी यमुना जी के विशद क्षेत्र एवं गहराई से चिंतित हैं। उन्हें यह डर था कहीं यमुना जी से मिलने से उनका अस्तित्व न समाप्त ही जाए इसपर यमुना जी हँस पड़ी और उन्होंने गंगा जी को आश्वस्त किया कि संगमोपरान्त गंगा जी ही पूर्ण-रूप से जानी जायेंगी। इस विषय में एक और कथा प्रचलित है कि जब सूर्य-सुता यमुना एवं गंगा के संगम की चर्चा हो रही थी तब गंगा जी ने यमुना जी के श्याम रंग के कारण उनसे मिलने से इनकार कर दिया था। इसपर भगवान् भास्कर अत्यधिक नाराज़ हुए और उन्होंने गंगा जी को कलयुग में मैला एवं मृत शरीर ढ़ोने का श्राप दे दिया। इस पर गंगा जी बहुत व्यथित हुयी, उन्होंने अपनी पीड़ा भगवान् विष्णु को बताई। विष्णु जी ने कहा कि वे भगवान् भास्कर का श्राप तो नहीं लौटा सकते परन्तु यह वरदान देते हैं कि बिना गंगा के जल के कोई भी पुण्यकर्म पृथ्वी पर पूर्ण नहीं माना जायेगा। साथ ही उन्होंने यमुना जी को वरदान दिया कि तुम्हारा जल अक्षयवट के सम्पर्क में आते ही पापनाशक हो जायेगा। इसपर गंगा जी बहुत प्रसन्न हुई एवं बोली अब यमुना जी के मिलन से मेरी महत्ता भी बढ़ जाएगी। सरस्वती जी भी अक्षयवट के महत्व को समझते हुए प्रभु आज्ञा से इस संगम में आ गई।

त्रिवेणी संगम

प्रयागराज के इस अद्वितीय त्रिवेणी संगम का महत्व इस कारण भी है कि, ब्रम्हा जी ने यहाँ भगवान् शिव को इष्ट मान कर यज्ञ किया था जिसकी रक्षा स्वयं भगवान् विष्णु माधव रूप में कर रहे थे। दूसरा, कालान्तर में इसे ही पृथ्वी का केंद्र भी माना गया है। ऐसे में तीर्थराज प्रयाग एवं त्रिवेणी संगम का महत्त्व स्वतः ही अत्यधिक बढ़ जाता है।

महाभारत में साठ करोड़ दस हजार तीर्थ प्रयाग में बताये गये हैं, जिनमें से अधिकांश तीर्थों का आधार संगम ही है। मान्यता है कि अधिकांश तीर्थ स्वयं गंगा जी एवं यमुना जी द्वारा लाये गये थे। पृथ्वी के जिस कण पर इनका जल पड़ता है वह स्थान स्वतः ही तीर्थ हो जाता है। सम्भवतः यही कारण है कि आदिकाल से जिस स्थान को ये धाराएँ पवित्र करती हैं, माघ माह में उसी पर सन्यासी आराधना करते हैं। चाहे वह महाकुम्भ का अवसर हो या कुम्भ मेले का अथवा हर साल लगने वाले माघ मेले का, उसी स्थान को आराधना के लिए उपयुक्त माना गया है जहाँ तक जल पहुंचा है। तीर्थ-स्थलों पर जिन पञ्चकर्मों
1. स्नान
2. दान
3. ब्रम्ह्भोज
4. उपवास
5. परिक्रमा
का विधान है वे सभी संगम पर अति-फलदायक होते हैं।

विभिन्न ग्रंथों में संगम स्नान का अलग-अलग महत्व बताया गया है। ब्रम्ह पुराण के अनुसार संगम स्नान से अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है तथा मत्स्य पुराण के अनुसार दस करोड़ तीर्थों का फल मिलता है। महाभारत में एक सूक्त संगम में स्नान के फल स्वरुप प्राप्त पुण्य को राजसूय एवं अश्वमेध यज्ञों के पुण्यफल के बराबर बताया गया है।

तत्राभिषेकं यः कुर्यात् संगमे लोकविश्रुते।
पुण्यं स फलमाप्नोति राजसूयाश्वमेधयों:।।

स्कन्द पुराण के काशी खण्ड में विभिन्न तिथियों पर स्नान के भी अलग अलग फल बताये गये हैं। जैसे अमावस्या पर स्नान करने से अन्य दिनों की अपेक्षा सौ गुणा अधिक फल प्राप्त होता है। संक्रांति में स्नान करने से हज़ार गुणा, सूर्य एवं चन्द्र ग्रहण के समय स्नान करने से सौ लाख गुणा। यदि सोमवार के दिन चन्द्र ग्रहण या रविवार को सूर्य ग्रहण पर स्नान किया जाए तो अपार पुण्यफल की प्राप्ति होती है।

दान व समर्पण का महात्म्य स्वयं कृष्णप्रिया यमुना से परिलक्षित होता है जो अपनी विशालता एवं अपने सर्वस्व का त्यागकर प्राणि मात्र के कल्याण के निमित्त गंगा में समाहित हो जाती है। यही त्याग और समर्पण ही संगम का मूल है, जैसा कि सम्राट हर्षवर्धन का दान अति-विशिष्ट एवं प्रचिलित है, वे प्रत्येक बारहवें वर्ष संगम तट पर लगने वाले कुम्भ में अपना सर्वस्व दान कर देते थे।

साथ ही माघ मास के दौरान कल्पवासी आदिकाल से ही ब्रम्ह्भोज, उपवास एवं प्रयागराज में स्थित तीर्थों की परिक्रमा करतें आ रहे हैं। इन सब के साथ ही संगम पर मुंडन का विधान है। मान्यता है कि संगम तट पर मुंडन से अनेक विघ्न बाधाएं स्वतः ही दूर हो जाती हैं।

प्रयाग पंचकोसी परिक्रमा

परिक्रमा शब्द के कानों में पड़ते ही मस्तिष्क में जो पहली छवि बनती है, वह श्रद्धाभाव से प्रभुनाम की धुन में मगन, प्रभु दर्शन की आस में किसी निश्चित मार्ग पर निकल पड़े भक्त की होती है। तीर्थ स्थानों की परिक्रमा की प्रथा सनातन है, बिना परिक्रमा, तीर्थ के यथार्थ फल प्राप्ति की कल्पना व्यर्थ है। कलयुग में प्रजापति क्षेत्र (प्रयागकी सीमा अक्षयवट के चारो ओर ढाई-ढाई कोस है) जिससे एक ओर से दूसरी ओर की दूरी पाँच कोस या इससे कुछ कम-ज्यादा आ जाती है। सम्भवतः यही कारण रहा है कि आदिकाल से तीर्थराज प्रयाग में कुम्भ मेले के दौरान विशेष रूप से पंचकोसी परिक्रमा की जाती है, जिसमें प्रयाग के समस्त प्रमुख तीर्थों (द्वादश माधव सहित) के दर्शन के साथ-साथ तीनों अग्नि कुण्डों (झूँसी, अरैल, तथा प्रयाग) की भी परिक्रमा हो जाती है।

सीमा के सन्दर्भ में एक श्लोक भी मिलता है -

दुर्वासाः पूर्वभागे निवसति बदरीखंडनाथः प्रतीच्याम् ।
पर्णाशो याम्यभागे धनददिशि तथा मंडलश्च मुनीशः ।
पंचक्रोशे त्रिवेण्याः परित इह सदा सन्ति सामांत भागे ।
सुक्षेत्रं योजनानाम् शरमित मभितो भुक्ति-मुक्ति पदंतत् ।।

अर्थात पूर्व में दुर्वासा मुनि के आश्रम को सीमा माना गया है और पश्चिम में यह सीमा बनखंडी शिव तक जाती है। इसी प्रकार उत्तर में पड़िला महादेव से दक्षिण में पर्णासमुनि आश्रम पनासा तक सीमा है।

यहाँ एक तथ्य ध्यान देने योग्य है कि प्रयागराज पंचकोसी की परिक्रमा अन्य तीर्थों से भिन्न है। इसमें गंगा, यमुना और मिश्रित संगम के किनारों को मिलाकर छः तट बनते हैं। जिनमें बहुत से तीर्थ आते हैं, अतः परिक्रमा में यह तट नहीं छूटने चाहिए इसका विशेष ध्यान देना होता है।

प्रयाग महात्म्य के अनुसार परिक्रमा में छह बातें ध्यान देने योग्य हैं –

  • तीनों अग्नि स्वरूप, प्रयाग, अलर्कपुरी , अरैल (तथा प्रतिष्ठानपुरी) झूँसी की परिक्रमा हो जाये।
  • तटों का कोई प्रधान तीर्थ न छूटे।
  • प्रयाग के अष्टनायक त्रिवेणी, माधव, सोम, भरद्वाज, वासुकी, अक्षयवट, शेष और प्रयाग ये परिक्रमा में हों।
  • प्रजापति क्षेत्र की जो सीमा निर्धारित है उससे आगे न जाया जाये।
  • जिस दिशा में जहाँ जाकर तीर्थों के कथन का अन्त कर दिया हो, उसे ही निश्चित सीमा मानी जाये।
  • परिक्रमा दक्षिणावर्त होनी चाहिए।

परिक्रमा सर्वप्रथम त्रिवेणी संगम में स्नान-ध्यान से प्रारम्भ होती होती है। यहाँ तीनों वेणियों का ध्यान करने के साथ ही संगम में विलुप्त श्री आदि वेणी माधव का ध्यान करना चाहिए। यथाशक्ति दान देकर, अक्षयवट तथा उनके सानिध्य में वास करने वाले देवता, ऋषियों का पूजन कर यमुना किनारे घृतकुल्या, मधुकुल्या, निरंजनतीर्थ, आदित्यतीर्थ, ऋणमोचनतीर्थ, पापमोचनतीर्थ, रामतीर्थ, सरस्वती कुण्ड, गौघट्टनतीर्थ, कामेश्वरतीर्थ मनकामेश्व के दर्शन करते हुए बरुआ/बलुआ घाट से तक्षकेश्वर शिव जी के मंदिर में जाना चाहिए। वहाँ से तक्षक कुण्ड, कालियह्रीद, चक्रतीर्थ, आदि का मार्जन प्रणाम करते हुए सिन्धु सागर तीर्थ पर पहुँचना चाहिए। वहाँ से अतरसुइया ललिता देवी के दर्शन कर पाण्डव कूप की प्रदक्षिणा करते हुए वरुण कूप के दर्शन करते हुए सूर्यकुण्ड जाना चाहिए और फिर यहाँ से भारद्वाज मुनि के आश्रम में जाना चाहिए।

इसके बाद नाग वासुकी मंदिर में असि माधव सहित नाग वासुकी के दर्शनोपरांत दारागंज में श्री वेणी माधव जी के दर्शन करने चाहिए। वहाँ से दशाश्वमेधेश्वर शिव के दर्शन करते हुए गंगा जी के किनारे के लक्ष्मी तीर्थ, उर्वशीतीर्थ, दत्त, सोम, सूर्यतीर्थ, कुबेरतीर्थ, वायुतीर्थ, अग्नितीर्थ, दुर्वासा आदि तीर्थों को प्रणाम कर वट-मूल में पहुँच कर त्रिवेणी स्नान करना चाहिए। इस प्रकार अंतर्वेदी के समस्त तीर्थों के दर्शन सम्पन्न होते हैं।

यहाँ से पुनः उत्तर की दिशा में अरैल में सुधारसतीर्थ, शूलटन्केश्वर और उर्वशी आदि तीर्थों में दर्शन मार्जन करते हुए आदि माधव जी के दर्शन करने चाहिए। वहाँ से दर्शनोपरांत हनुमान तीर्थ, सीताकुण्ड, रामतीर्थ, चक्र माधव, वीरतीर्थ, आदि में प्रणाम करते हुए सोमेश्वरनाथ जी के मंदिर में दर्शन का विधान है। यहाँ से छिवकी स्टेशन के पास स्थित कम्बलाश्वत्तरनाग के क्षेत्र में पहुँचना चाहिए, यहाँ श्री गदा माधवजी के दर्शन तथा सैनी देवी के चबूतरे की प्रदक्षिणा करनी चाहिए यहाँ से वीकरक्षेत्र में स्थित श्री पद्ममाधव के दर्शन के साथ सुजावनदेव के दर्शन करने चाहिए। यहाँ से मार्ग में पड़ने वाले तीर्थों को प्रणाम करते हुए प्राचीन बनखंडी महादेवजी के दर्शन करने चाहिए। सम्भवतः यही स्थान बहुमूलक नाग का भी है।

इसके उपरान्त चौफटका के आगे देवगिरवा में श्री अनंत माधव जी के दर्शन करने चाहिए फिर यहाँ से मार्ग में पड़ने वाले तीर्थों के दर्शन करते हुए द्रोपदी घाट पर श्री विन्दु माधव जी के दर्शन करने के साथ द्रोपदी मंदिर में दर्शन करने चाहिए। यहाँ से शिवकुटी में दर्शन करने के बाद पड़िला महादेव के दर्शन के बाद सोनौटी, बदरा होते हुए सीधा नागेश्वर शिव जी के दर्शन करने चाहिए तथा छतनाग के अन्य तीर्थों के दर्शन करने चाहिए। यहाँ से मुन्शी बगीचे में स्थित श्री शंख माधव जी के दर्शन करने के बाद व्यास आश्रम में समुद्रकूप के दर्शन, एलतीर्थ, संकष्टहर माधव के दर्शनोप्रांत दशाश्व्मेध घाट से होते हुए पुनः अक्षयवट के दर्शन करने चाहिए एवं उसके उपरान्त त्रिवेणी जी में यात्रा समाप्त करनी चाहिए।

प्रयाग तीर्थों की परिक्रमा में मनुष्य जितने पग श्रद्धाभाव से चलता है उतने अश्वमेध यज्ञों के फल उसे प्राप्त होते हैं। मत्स्य पुराण में श्री मार्कंडेय जी स्वयं इस बात की पुष्टि करते हैं

उपर्युक्त वर्णित मंदिरों में से कुछ का माहात्म्य इस प्रकार है :

  • श्री आदि वेणी माधव श्री आदि वेणी संगम त्रिवेणी में विलुप्त बताया जाता है। अतः इसका कोई दृश्य तीर्थ ना होते हुए सम्पूर्ण त्रिवेणी को ही इनका धाम माना गया है।
  • श्री असि माधव श्री असि माधव का स्थान दारागंज स्थित नागवासुकी मंदिर में बताया जाता है। कहते हैं स्वयं भगवान् शिव के साथ असि माधव जी ने ही नागों को यहाँ रहने की आज्ञा दी थी । गंगा तट पर स्थित यह मंदिर एक ऊँचे मंच पर स्थित है। मंदिर का स्थापत्य आर्य शैली पर आधारित है । यहाँ असि माधव को प्रधान मंदिर के एक आले में स्थापित किया गया है।
  • श्री संकष्टहर माधव प्रतिष्ठानपूरी (झूंसी) में गंगा तट से कुछ 200 मीटर पर स्थित परमपूज्य श्री प्रभुदत्तजी ब्रम्हचारी के आश्रम के सामने ही श्री संकष्टहर माधव जी का धाम है। कहते हैं यहाँ स्थित प्राचीन वट के नीचे बैठकर ब्रम्हचारी जी प्रभु का ध्यान करते थे। यहीं पर एक नए मंदिर प्रांगण का निर्माण कर माधव जी की प्रतिमा की स्थापना की गई है।
  • श्री शंख माधव छतनाग घाट के पास मुन्शी बगीचे में स्थापित हैं। यह स्थान संगम से ठीक पूर्व दिशा में है । आज यहाँ महर्षि सदाफलदेव आश्रम भी है जिसका रास्ता एम. पी. बिरला शिक्षा भवन के ठीक सामने से जाता है। आर्य शैली पर आधारित परिसर में माधव जी की प्रतिमा स्थापित है।
  • श्री चक्र माधव अग्नि कोण में स्थित अरैल क्षेत्र के चाक बेनीराम में कुछ पचास वर्ष पूर्व श्री चक्र माधव जी के मंदिर का निर्माण हुआ था।
  • श्री आदि माधव अरैल घाट के समीप श्री रामेश्वर महादेव मंदिर के पास ही श्री आदि माधव जी का स्थान है। परम्परागत आर्य शैली के निर्मित मंदिर में इनका स्थान है। आस-पास कई और मंदिर एवं आश्रम भी हैं।
  • श्री गदा माधव श्री गदा माधव जी का स्थान श्री चक्र माधव जी के दक्षिण में बताया जाता है। छिवकी रेलवे जंक्शन के पास ही एक नव-निर्मित भवन में श्री गदा माधव जी का स्थान है। लगभग दस मीटर लम्बे गलियारे में प्राचीन मूर्ति के अवशेष की स्थापना की गई है। जो कि श्री चरणों का भाग है एवं जिसकी उचाई लगभग पन्द्रह इंच से थोड़ी ज्यादा या कम है। दक्षिण में प्रजापति क्षेत्र की यही स्थान सीमा भी मानी गई है।
  • श्री पद्म माधव श्री पद्म माधव के स्थान से सम्बन्धित जो साक्ष्य प्राप्त होते हैं वो उनके स्थान को नैनी के पश्चिम में स्थित वीकर में बताते हैं। वीकर देवरिया में यमुना जी की धारा के बीच एक टीले पर शिव जी का मंदिर है इसी मंदिर को श्री पद्म माधव का भी स्थान कहा गया है। इस मंदिर को सुजावन देव के नाम से भी जाना जाता है। श्रद्धालु यहाँ दर्शन हेतु जाने के लिए नौका का प्रयोग कर सकते हैं।
  • श्री मनोहर माधव कमला नेहरु मार्ग पर स्थित श्री बाबा दरेवानाथ मंदिर में ही श्री मनोहर माधव जी का स्थान बताया जाता है। कहा जाता है कि कुबेरजी ने स्वयं इनकी आराधना की थी। यहाँ कभी कुबेरजी का आश्रम भी हुआ करता था।
  • श्री विन्दु माधव यह क्षेत्र अब छावनी के अंतर्गत आता है। यहाँ द्रौपदी घाट पर कभी किसी ने श्री विन्दु माधव जी की स्थापना करवाई थी। आज यह स्थान द्रौपदी जी के मंदिर में ही आता है।
  • श्री वेणी माधव दारागंज में निराला मार्ग पर एक दो मंजिले मंदिर में श्री वेणी माधव जी का स्थान है। यह मंदिर समस्त श्री माधव मंदिरों में सबसे अधिक प्रसिद्द है।
  • श्री अनंत माधव त्रिवेणी से पश्चिम की दिशा में खुल्दाबाद से लगभग चार किलोमीटर आगे देवागिरवा में अन्नंत माधव का स्थान बताया गया है। यह मंदिर और इसके आस-पास का क्षेत्र आज आर्मी छावनी के क्षेत्र में आता है।

इन द्वादश माधवों के अलावा भी प्रयाग में एक माधव और बताये जाते हैं वट माधव जिनका स्थान अक्षयवट के मूल में बताया गया है।

  • अक्षयवट/पाताल पूरी मंदिर सृष्टि के प्रलयकाल में भी जिस ‘अक्षयवट’ के नष्ट न होने की चर्चा अनेक धर्मग्रंथो, पुराणों में वर्णित है वही अक्षयवट बीते पांच सौ वर्षों से अकबर निर्मित इलाहाबाद किले में तहखाने में स्थित पातालपुरी मन्दिर का हिस्सा है। गोस्वामी तुलसीदास ने भी इस अक्षयवट की चर्चा "पूजहिं माधव पद जल जाता। परसि अक्षयवट हरषहिं गाता"। के रूप में चर्चा की है। यहां जाने के लिए संगम की तरफ से भी एक रास्ता है पर किले में सैन्य छावनी होने के कारण यह बंद रहता है। इसकी कुछ शाखाएं पातालपुरी मन्दिर के पास के हिस्से में सुरक्षित हैं।
  • बल्लभाचार्य की बैठक: यमुना पार के अरैल गांव में कृष्णभक्ति आंदोलन के प्रमुख सूत्रधार वल्लभाचार्य की बैठक है। यहीं रहकर उन्होंने लम्बे समय तक साधु-संतों की सेवा की और फिर देश भ्रमण किया। आचार्य ने पुष्टि मार्ग का प्रवर्तन किया और कई राज्यों में इनकी शिष्य परम्परा भी विकसित हो गयी।
  • पड़िला महादेव प्रयाग शहर से 15 किलोमीटर उत्तर फाफामऊ-वाराणसी मार्ग पर पड़िला महादेव का प्रसिद्ध मंदिर अति प्राचीन है। इसके परिसर में एक बैजू मंदिर भी है। बैजू भगवान शिव का परम भक्त थे। कहते हैं अज्ञातवास के दौर में पांडव बंधुओं ने इस मंदिर के शिवलिंग की स्थापना की थी। आज श्रावण मास में यहां शिवभक्तों, कांवरियों का ताँता लगा रहता है।
  • कोटितीर्थ (शिवकुटी) तीर्थेश्वर भगवान शिव के इस धाम में श्रावणमास पर्यन्त मेला रहता है। इस तीर्थ के दर्शन और स्नान का विशेष महत्व है। यहां दान-पुण्य, पितृ तर्पण का अनंत फल मिलता है। कहते हैं कि महर्षि भरद्वाज के निर्देश पर भगवान राम ने यहीं पर मिट्टी-बालू के सहस़्त्र शिवलिंग बनाकर ब्रम्हहत्या से दोषमुक्त होने के लिए पूजा-अर्चना की थी।
  • शक्तिपीठ-शीतला धाम : भारतवर्ष में 51 शक्ति पीठों में कड़ा के शीतला धाम की बहुत महिमा है। यहीं पर किसी राक्षस का वध करने के लिए मां शीतला ने कालरात्रि का रूप धारण कर उसका खात्मा किया था। अब नवसृजित कौशाम्बी जिले का यह एक महत्वपूर्ण स्थल है।
  • शक्तिपीठ मां ललिता देवी मीरापुर मुहल्ले में स्थित मां ललिता देवी मंदिर का भी सती के 51 शक्तिपीठों में कहा गया है, किन्तु यह मंदिर बहुत पुराना नहीं है। 50 बरस पहले प्रभुदत्त ब्रम्हचारी ने पहले यहीं पर एक छोटा मंदिर बनवाया, फिर हाल के वर्षो में इसका विस्तार हो गया है।
  • शक्तिपीठ मां कल्याणी देवी मां कल्याणी को महर्षि भारद्वाज की अधिष्ठात्री कहा जाता है। वर्तमान मंदिर कम से कम 1500 वर्ष पुराना है। कहते हैं महर्षि याज्ञवल्क्य ने यहींपर 32 अंगुली की कल्याणी देवी प्रतिमा भी स्थपित की थीं इस मंदिर की भक्तों में गहरी आस्था है।
  • शक्तिपीठ-अलोपशंकरी देवी अलोपीबाग मुहल्ले में स्थित अलोपशंकरी देवी का मंदिर महानिर्वाणी पंचायत अखाडे़ के अधीन है। कहते हैं यह देश के 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां देवी सती की अंगुलियां गिरी थीं। यहां देवी की कोई प्रतिमा नहीं है। मंदिर में एक चौकोर चबूतरे के मध्य एक कुण्ड है जिसमें जल भरा रहता है। कुण्ड के ठीक ऊपर मंदिर की छत से लटकता एक झूला है। इसी झूले और कुण्ड की पूजा की जाती है। र चबूतरे के मध्य एक कुण्ड है जिसमें जल भरा रहता है। कुण्ड के ठीक ऊपर मंदिर की छत से लटकता एक झूला है। इसी झूले और कुण्ड की पूजा की जाती है।
  • तुलसीदास जी का बड़ा स्थान मेला क्षेत्र में स्थित दारागंज के दक्षिण द्वार पर तुलसीदास का बड़ा स्थान है। अकबर ने त्रिवेणी बांध निर्माण के दौरान इस सिद्ध स्थल को हटाने की बहुत कोशिश की पर सिद्ध महात्मा लोग इसके लिए तैयार नहीं हुए। चारों वैष्णव सम्प्रदाय के लोग यहीं से हनुमानजी की विजय पताका लेकर, ध्वज लेकर कुम्भ स्नान के लिए निकलते थे। फिर अगले कुम्भ तक के लिए 12 वर्षों तक यह पताकाएं यहीं सुरक्षित रखी जाती थीं।
  • बड़े हनुमानजी संगम तट पर त्रिवेणी बांध के नीचे ही बड़े हनुमान जी का मन्दिर है। लोकमान्यता है कि देश में यह एकमात्र प्रतिमा है, जो लेटी अवस्था में है। हनुमान जी का पांव दक्षिण दिशा की ओर है तथा एक पांव के नीचे पाताल की देवी ‘कामदा’ की प्रतिमा है, दूसरे के नीचे अहिरावण दबा पड़ा है। दाहिनी भुजा के नीचे मकर ध्वज है तथा बायें में श्रीराम और लक्ष्मण विराजमान हैं। रोजाना यहां भारी भीड़ जुटती है। कहा जाता है कि गंगा तट का निर्माण प्रयाग के सिद्ध पुरूष बाघम्बरी बाबा ने कराया था।
  • शंकर विमान मंडपम् त्रिवेणी बांध के गंगा तट पर कांची कोमकोटि पीठम् के शंकराचार्य स्वामी चंद्रशेखरेन्द्र सरस्वती ने 16 खम्बों पर आधारित इस मन्दिर की स्थापना की। इस मन्दिर में 300 से अधिक मूर्तियाँ हैं। दक्षिण भारतीय शिल्पकारों ने इसे कई वर्षों के अथक परिश्रम से तैयार किया था। तीन तल वाले इस मन्दिर के तीसरे तल में सहस्त्र मुखी शिवलिंग भी स्थापित है।
  • मनकामेश्वर मन्दिर: इलाहाबाद किले के तहखाने में यह मन्दिर होने के नाते इसे सिर्फ माघ माह में दर्शनार्थ खोला जाता है। अंदर गणेश, गुरू गोरखनाथ, नृसिंह, शिवलिंग धर्मराज आदि की 40 से अधिक मूर्तियां हैं।

सोशल मीडिया

मुख्य गतिविधियाँ